Wednesday, 24 August 2016

Teachers Day 2016 Short Essay Speech In Hindi & English

 teachers day speech in hindi by student, essay on teachers day in hindi language, speech on teachers day in hindi pdf, teacher day speech in hindi pdf download, sample teachers day speech in hindi, teachers day essay in english
If you are searching for teachers day speech in hindi by student, essay on teachers day in hindi language, speech on teachers day in hindi pdf, teacher day speech in hindi pdf download, sample teachers day speech in hindi, teachers day essay in english, Then you are in the right place.
In many countries, Teachers' Day is a special day for the appreciation of teachers, and may include celebrations to honor them for their special contributions in a particular field area, or the community in general. The date on which Teachers' Day is celebrated varies from country to country. Teachers' days in different countries are distinct from World Teachers' Day, which is celebrated on 5 October.
The idea of celebrating Teachers' Day took root in many countries during the 20th century; in most cases, they celebrate a local educator or an important milestone in education (for example, Argentina has commemorated Domingo Faustino Sarmiento's death on 11 September since 1915,while India has celebrated the birthday of Dr Sarvepalli Radhakrishnan (5 September) since 1962). This is the primary reason why countries celebrate this day on different dates, unlike many other International Days.. Dr. Sarvepalli Radhakrishnan Dr. Sarvepalli Radhakrishnan was one of the most distinguished diplomats, scholars and teachers of India, apart from being the first Vice President and the second President of the country. As a tribute to this great teacher, his birthday is observed as Teacher's Day across India. As a matter of fact, when his students and friends asked him for the permission to celebrate his birthday, it was he who asked them to celebrate the day as Teacher's Day, honoring the efforts of teachers across the country. 

Teachers Day 2016 Short Essay in English

It is said that nothing is there to compare from the teaching profession. It is the noblest profession in the world. 5th of September has been dedicated to the teaching profession by celebrating this day as teachers day all through the India. It is celebrated every year to commemorate the birth anniversary of earlier India President, Dr. Sarvapalli Radhakrishnan as well as pay honour to the teachers. The birth anniversary day of our earlier president has been dedicated to highlight the nobility of the teaching profession as well as contributions of our teachers in the society and country development.
Dr. Sarvapalli Radhakrishnan was a great teacher who had spent around 40 years of his life in the teaching profession. He was well known about all the roles and contributions of the teachers in students life. So, he was the first person who thought about teachers and requested his birthday means 5th of September to be celebrated as the Teachers day every year. He was born on 5th of September in 1888 and started his career as a philosophy teacher by entering to the teaching profession at his 21 at Presidency College, Chennai in 1909.
He taught philosophy in many famous universities of the India as well as and abroad like University of Chennai, Kolkata, Mysore, Benares, Oxford in London, etc. Because of his committed dedication towards the teaching profession, he was appointed as the Chairman of University Grants Commission in 1949 in order to recognise his valuable services. 5th of September was started celebrating as the teachers day from 1962. After serving the nation for a long period of time through his great services, Sarvapalli Radhakrishnan passed away in 1975 on 17th of April.
Teachers are like real potters who not only give our life a shape, but also enable to lit like a lamp forever after dispelling the darkness from all across the world. So that, our nation can be enlightened with lots of bright lamps. Therefore, the nation pays homage and respect to all the teachers in the country. We can nothing give our teachers in return to their great job however; we should respect them always and say thanks. We should take a pledge to heartily respect and honour our teachers in our daily lives as without a good teacher we all are incomplete in this world.

Teachers Day 2016 Short Speech in English

Teachers are the real holder of knowledge, enlightenment and prosperity using which they nourish and prepare us for our life. They serve as source of lighting lamp in our lives. It is our teachers who stand behind our success. Out teachers too have lots of daily routine problems just like us and our parents but they always keep their teaching profession at top and attend schools or colleges to complete their job responsibilities. Nobody say them thanks for their priceless job. So, we as students have some responsibility towards our teachers at least we can say them thanks once a year.
Teacher’s day is celebrated every year on 5th of September to pay honour to our selfless teachers and their priceless job. 5th of September is a birth anniversary of our earlier President Dr. Sarvapalli Radhakrishnan who had requested to celebrate his birthday as the teachers day to respect teachers all over India. He was great fond of the teaching profession. Our teachers shape us to be academically wonderful and morally good by enhancing our knowledge, skill and confidence level. They always promote us to do every impossible thing possible to do better in the life. Teacher’s day is celebrated with great joy and enthusiasm by the students. They say give them lots of greeting orally or through greeting cards.

Teachers Day 2016 Short Essay in Hindi

भारत भूमि पर अनेक विभूतियों ने अपने ज्ञान से हम सभी का मार्ग दर्शन किया है। उन्ही में से एक महान विभूति शिक्षाविद्, दार्शनिक, महानवक्ता एवं आस्थावान हिन्दु विचारक डॉ. सर्वपल्लवी राधाकृष्णन जी ने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है। उनकी मान्यता थी कि यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाय़े तो समाज की अनेक बुराईयों को मिटाया जा सकता है।
ऐसी महान विभूति का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाना हम सभी के लिये गौरव की बात है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के व्यक्तित्व का ही असर था कि 1952 में आपके लिये संविधान के अंतर्गत उपराष्ट्रपति का पद सृजित किया गया। स्वतंत्र भारत के पहले उपराष्ट्रपति जब 1962 में राष्ट्रपति बने तब कुछ शिष्यों ने एवं प्रशंसकों ने आपसे निवेदन किया कि  वे उनका जनमदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। तब डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने कहा कि मेरे जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने से मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस करूंगा। तभी से 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ज्ञान के सागर थे। उनकी हाजिर जवाबी का एक किस्सा आपसे Share कर रहे हैः—
एक बार एक प्रतिभोज के अवसर पर अंग्रेजों की तारीफ करते हुए एक अंग्रेज ने कहा – “ईश्वर हम अंग्रेजों को बहुत प्यार करता है। उसने हमारा निर्माण बङे यत्न और स्नेह से किया है। इसी नाते हम सभी इतने गोरे और सुंदर हैं।“ उस सभा में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी भी उपस्थित थे। उन्हे ये बात अच्छी नही लगी अतः उन्होने उपस्थित मित्रों को संबोधित करते हुए एक मनगढंत किस्सा सुनाया—
“मित्रों, एक बार ईश्वर को रोटी बनाने का मन हुआ उन्होने जो पहली रोटी बनाई, वह जरा कम सिकी। परिणामस्वरूप अंग्रेजों का जन्म हुआ। दूसरी रोटी कच्ची न रह जाए, इस नाते भगवान ने उसे ज्यादा देर तक सेंका और वह जल गई। इससे निग्रो लोग पैदा हुए। मगर इस बार भगवान जरा चौकन्ने हो गये। वह ठीक से रोटी पकाने लगे। इस बार जो रोटी बनी वो न ज्यादा पकी थी न ज्यादा कच्ची। ठीक सिकी थी और परिणाम स्वरूप हम भारतियों का जन्म हुआ।“
ये किस्सा सुनकर उस अग्रेज का सिर शर्म से झुक गया और बाकी लोगों का हँसते हँसते बुरा हाल हो गया।

मित्रों, ऐसे संस्कारित एवं शिष्ट माकूल जवाब से किसी को आहत किये बिना डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने भारतीयों को श्रेष्ठ बना दिया। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का मानना था कि व्यक्ति निर्माण एवं चरित्र निर्माण में शिक्षा का विशेष योगदान है। वैश्विक शान्ति, वैश्विक समृद्धि एवं वैश्विक सौहार्द में शिक्षा का महत्व अतिविशेष है। उच्चकोटी के शिक्षाविद् डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी को भारत के प्रथम राष्ट्रपति महामहीम डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने भारतरत्न से सम्मानित किया।
महामहीम राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के विचारों को ध्यान में रखते हुए, मित्रों मेरा ये मानना है कि शिक्षक दिवस के पुनित अवसर पर हम सब ये प्रण करें कि शिक्षा की ज्योति को ईमानदारी से अपने जीवन में आत्मसात करेंगे क्योंकि शिक्षा किसी में भेद नही करती, जो इसके महत्व को समझ जाता है वो अपने भविष्य को सुनहरा बना लेता है।

 Teachers Day 2016 Short Speech in Hindi

किसी भी राष्ट्र का आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक विकास उस देश की शिक्षा पर निर्भर करता है। शिक्षा के अनेक आयाम हैं, जो राष्ट्रीय विकास में शिक्षा के महत्व को रेखांकित करते हैं। वास्तविक रूप में शिक्षा का आशय है ज्ञान, ज्ञान का आकांक्षी है-शिक्षार्थी और इसे उपलब्ध कराता है शिक्षक।

तीनों परस्पर एक-दूसरे पर निर्भर हैं। एक के बगैर दूसरे का अस्तित्व नहीं। यहां शिक्षा व्यवस्था को संचालित करने वाली प्रबंधन इकाई के रूप में प्रशासन नाम की नई चीज जुड़ने से शिक्षा ने व्यावसायिक रूप धारण कर लिया है। शिक्षण का धंधा देश में आधुनिक घटना के रूप में देखा जा सकता है।

प्राचीनकाल की ओर देखें तब भारत में ज्ञान प्रदान करने वाले गुरु थे, अब शिक्षक हैं। शिक्षक और गुरु में भिन्नता है। गुरु के लिए शिक्षण धंधा नहीं, बल्कि आनंद है, सुख है। शिक्षक अतीत से प्राप्त सूचना या जानकारी को आगे बढ़ाता है, जबकि गुरु ज्ञान प्रदान करता है।

सूचना एवं ज्ञान में भी भिन्नता है। सूचना अतीत से मिलती है, जबकि ज्ञान भीतर से प्रस्फुटित होता है। गुरु ज्ञान प्रदान करता है और शिक्षक सूचना।

शिक्षा विकास की कुंजी है। विश्वास जैसे आवश्यक गुणों के जरिए लोगों को अनुप्रमाणित कर सकती है। विकसित एवं विकासशील दोनों वर्ग के देशों में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका समझी गई है। भारत में राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लेकर समय-समय पर बहस होती रही है।

इसे विडंबना ही कहें कि हम आज तक सर्व स्वीकार्य शिक्षा व्यवस्था कायम नहीं कर सके। उल्लेखनीय है कि तमाम सरकारी प्रयासों के बावजूद आज 19 वर्ष की आयु समूह में दुनिया की कुल निरक्षर आबादी का लगभग 50 प्रतिशत समूह भारत में है। कहा जाता है कि तरुणाई देश का भविष्य है।

राष्ट्र निर्माण में युवा पीढ़ी की अहम भूमिका है। इस संदर्भ में भारत की स्थिति अत्यधिक शर्मनाक और हास्यास्पद ही मानी जा सकती है। देश में लगातार हो रहे नैतिक एवं शैक्षणिक पतन से हमारे युवा वर्ग पर सर्वाधिक प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

देश के विश्वविद्यालय प्रतिवर्ष बेरोजगार नौजवानों की फौज तैयार करते जा रहे हैं। किसी ने ठीक ही कहा है - "सत्ता की नाकामी राजनीतिक टूटन को जन्म देती है।" हमारी राजनीतिक पार्टियां, जातियों में विघटित हो रही हैं।

परिणामस्वरूप मानव समाज आत्म केंद्रित और स्वार्थ केंद्रित होता जा रहा है। आज देश की राजनीति में काम और योग्यता का मूल्यांकन न होकर धन, बल और बाहुबल का बोलबाला है। लोकतंत्र के गौरव और प्रतिष्ठा का प्रतीक हमारी संसद वैचारिक प्रवाह चिंतन मनन की जगह द्वेष, कलह, झूठी शान और दिखावे के स्वर उभरते नजर आते हैं।

देश के कर्णधारों की कथनी-करनी के बीच बढ़ते अंतर ने मानव-मानव के बीच आस्था और विश्वास का संकेत खड़ा कर दिया है। व्यावसायिकता की आंच से मानवीय संवेदनाएं ध्वस्त हो रही हैं और हमारी कथित भाग्य विधाता शिक्षक समाज राष्ट्र में व्याप्त इस भयावह परिस्थिति को निरीह और असहाय प्राणी बनकर मूकदर्शक की भांति देखने को विवश हैं।

दुर्भाग्य से हमारे देश में समाज के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और आदर प्राप्त "शिक्षक" की हालत अत्यधिक दयनीय और जर्जर कर दी गई है।

शिक्षक शिक्षण छोड़कर अन्य समस्त गतिविधियों में संलग्न हैं। वह प्राथमिक स्तर का हो अथवा विश्वविद्यालयीन, उससे लोकसभा, विधानसभा सहित अन्य स्थानीय चुनाव, जनगणना, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री अथवा अन्य इस श्रेणी के नेताओं के आगमन पर सड़क किनारे बच्चों की प्रदर्शनी लगवाने के अतिरिक्त अन्य सरकारी कार्य संपन्न करवाए जाते हैं।

देश की शिक्षा व्यवस्था एवं शिक्षकों की मौजूदा चिंतनीय दशा के लिए हमारी राष्ट्रीय और प्रादेशिक सरकारें सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं, जिसने शिक्षक समाज के अपने हितों की पूर्ति का साधन बना लिया है। शिक्षा वह है, जो जीवन की समस्याओं को हल करे, जिसमें ज्ञान और काम का योग है?

आज विद्यालय में विद्यार्थी अध्यापक से नहीं पढ़ते, बल्कि अध्यापक को पढ़ते हैं।

वर्षभर उपेक्षा और प्रताड़ना सहन करने वाले समाज के दीनहीन समझे जाने वाले आज के कर्मवीर, ज्ञानवीर पराक्रमी और स्वाभिमानी शिक्षकों को 5 सितंबर को राष्ट्रीय राजधानी सहित देशभर में सम्मान प्रदान कर सरकार शिक्षक दिवस की औपचारिकता पूरी करती है।

संभावना आज की असीमित एवं अपरिमित है। निष्क्रिय समाज सक्रिय दुर्जनों से खतरनाक है। किसी महापुरुष द्वारा व्यक्त यह कथन हमें भयावह परिदृश्य से उबारने की प्रेरणा दे सकता है।

Conclusion

Stay connect with us for happy Teachers Day 2016 Short Essay in English, happy Teachers Day 2016 Short Essay in Hindi, happy Teachers Day 2016 Short Speech in Hindi, happy Teachers Day 2016 Short in English.
I hope you will love this article. So share this article with your family and friends.
I would like to know how you will celebrate this festival in the comment section.
 teachers day speech in hindi by student, essay on teachers day in hindi language, speech on teachers day in hindi pdf, teacher day speech in hindi pdf download, sample teachers day speech in hindi, teachers day essay in english
If you are searching for teachers day speech in hindi by student, essay on teachers day in hindi language, speech on teachers day in hindi pdf, teacher day speech in hindi pdf download, sample teachers day speech in hindi, teachers day essay in english, Then you are in the right place.
In many countries, Teachers' Day is a special day for the appreciation of teachers, and may include celebrations to honor them for their special contributions in a particular field area, or the community in general. The date on which Teachers' Day is celebrated varies from country to country. Teachers' days in different countries are distinct from World Teachers' Day, which is celebrated on 5 October.
The idea of celebrating Teachers' Day took root in many countries during the 20th century; in most cases, they celebrate a local educator or an important milestone in education (for example, Argentina has commemorated Domingo Faustino Sarmiento's death on 11 September since 1915,while India has celebrated the birthday of Dr Sarvepalli Radhakrishnan (5 September) since 1962). This is the primary reason why countries celebrate this day on different dates, unlike many other International Days.. Dr. Sarvepalli Radhakrishnan Dr. Sarvepalli Radhakrishnan was one of the most distinguished diplomats, scholars and teachers of India, apart from being the first Vice President and the second President of the country. As a tribute to this great teacher, his birthday is observed as Teacher's Day across India. As a matter of fact, when his students and friends asked him for the permission to celebrate his birthday, it was he who asked them to celebrate the day as Teacher's Day, honoring the efforts of teachers across the country. 

Teachers Day 2016 Short Essay in English

It is said that nothing is there to compare from the teaching profession. It is the noblest profession in the world. 5th of September has been dedicated to the teaching profession by celebrating this day as teachers day all through the India. It is celebrated every year to commemorate the birth anniversary of earlier India President, Dr. Sarvapalli Radhakrishnan as well as pay honour to the teachers. The birth anniversary day of our earlier president has been dedicated to highlight the nobility of the teaching profession as well as contributions of our teachers in the society and country development.
Dr. Sarvapalli Radhakrishnan was a great teacher who had spent around 40 years of his life in the teaching profession. He was well known about all the roles and contributions of the teachers in students life. So, he was the first person who thought about teachers and requested his birthday means 5th of September to be celebrated as the Teachers day every year. He was born on 5th of September in 1888 and started his career as a philosophy teacher by entering to the teaching profession at his 21 at Presidency College, Chennai in 1909.
He taught philosophy in many famous universities of the India as well as and abroad like University of Chennai, Kolkata, Mysore, Benares, Oxford in London, etc. Because of his committed dedication towards the teaching profession, he was appointed as the Chairman of University Grants Commission in 1949 in order to recognise his valuable services. 5th of September was started celebrating as the teachers day from 1962. After serving the nation for a long period of time through his great services, Sarvapalli Radhakrishnan passed away in 1975 on 17th of April.
Teachers are like real potters who not only give our life a shape, but also enable to lit like a lamp forever after dispelling the darkness from all across the world. So that, our nation can be enlightened with lots of bright lamps. Therefore, the nation pays homage and respect to all the teachers in the country. We can nothing give our teachers in return to their great job however; we should respect them always and say thanks. We should take a pledge to heartily respect and honour our teachers in our daily lives as without a good teacher we all are incomplete in this world.

Teachers Day 2016 Short Speech in English

Teachers are the real holder of knowledge, enlightenment and prosperity using which they nourish and prepare us for our life. They serve as source of lighting lamp in our lives. It is our teachers who stand behind our success. Out teachers too have lots of daily routine problems just like us and our parents but they always keep their teaching profession at top and attend schools or colleges to complete their job responsibilities. Nobody say them thanks for their priceless job. So, we as students have some responsibility towards our teachers at least we can say them thanks once a year.
Teacher’s day is celebrated every year on 5th of September to pay honour to our selfless teachers and their priceless job. 5th of September is a birth anniversary of our earlier President Dr. Sarvapalli Radhakrishnan who had requested to celebrate his birthday as the teachers day to respect teachers all over India. He was great fond of the teaching profession. Our teachers shape us to be academically wonderful and morally good by enhancing our knowledge, skill and confidence level. They always promote us to do every impossible thing possible to do better in the life. Teacher’s day is celebrated with great joy and enthusiasm by the students. They say give them lots of greeting orally or through greeting cards.

Teachers Day 2016 Short Essay in Hindi

भारत भूमि पर अनेक विभूतियों ने अपने ज्ञान से हम सभी का मार्ग दर्शन किया है। उन्ही में से एक महान विभूति शिक्षाविद्, दार्शनिक, महानवक्ता एवं आस्थावान हिन्दु विचारक डॉ. सर्वपल्लवी राधाकृष्णन जी ने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है। उनकी मान्यता थी कि यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाय़े तो समाज की अनेक बुराईयों को मिटाया जा सकता है।
ऐसी महान विभूति का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाना हम सभी के लिये गौरव की बात है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के व्यक्तित्व का ही असर था कि 1952 में आपके लिये संविधान के अंतर्गत उपराष्ट्रपति का पद सृजित किया गया। स्वतंत्र भारत के पहले उपराष्ट्रपति जब 1962 में राष्ट्रपति बने तब कुछ शिष्यों ने एवं प्रशंसकों ने आपसे निवेदन किया कि  वे उनका जनमदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। तब डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने कहा कि मेरे जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने से मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस करूंगा। तभी से 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ज्ञान के सागर थे। उनकी हाजिर जवाबी का एक किस्सा आपसे Share कर रहे हैः—
एक बार एक प्रतिभोज के अवसर पर अंग्रेजों की तारीफ करते हुए एक अंग्रेज ने कहा – “ईश्वर हम अंग्रेजों को बहुत प्यार करता है। उसने हमारा निर्माण बङे यत्न और स्नेह से किया है। इसी नाते हम सभी इतने गोरे और सुंदर हैं।“ उस सभा में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी भी उपस्थित थे। उन्हे ये बात अच्छी नही लगी अतः उन्होने उपस्थित मित्रों को संबोधित करते हुए एक मनगढंत किस्सा सुनाया—
“मित्रों, एक बार ईश्वर को रोटी बनाने का मन हुआ उन्होने जो पहली रोटी बनाई, वह जरा कम सिकी। परिणामस्वरूप अंग्रेजों का जन्म हुआ। दूसरी रोटी कच्ची न रह जाए, इस नाते भगवान ने उसे ज्यादा देर तक सेंका और वह जल गई। इससे निग्रो लोग पैदा हुए। मगर इस बार भगवान जरा चौकन्ने हो गये। वह ठीक से रोटी पकाने लगे। इस बार जो रोटी बनी वो न ज्यादा पकी थी न ज्यादा कच्ची। ठीक सिकी थी और परिणाम स्वरूप हम भारतियों का जन्म हुआ।“
ये किस्सा सुनकर उस अग्रेज का सिर शर्म से झुक गया और बाकी लोगों का हँसते हँसते बुरा हाल हो गया।

मित्रों, ऐसे संस्कारित एवं शिष्ट माकूल जवाब से किसी को आहत किये बिना डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने भारतीयों को श्रेष्ठ बना दिया। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का मानना था कि व्यक्ति निर्माण एवं चरित्र निर्माण में शिक्षा का विशेष योगदान है। वैश्विक शान्ति, वैश्विक समृद्धि एवं वैश्विक सौहार्द में शिक्षा का महत्व अतिविशेष है। उच्चकोटी के शिक्षाविद् डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी को भारत के प्रथम राष्ट्रपति महामहीम डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने भारतरत्न से सम्मानित किया।
महामहीम राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के विचारों को ध्यान में रखते हुए, मित्रों मेरा ये मानना है कि शिक्षक दिवस के पुनित अवसर पर हम सब ये प्रण करें कि शिक्षा की ज्योति को ईमानदारी से अपने जीवन में आत्मसात करेंगे क्योंकि शिक्षा किसी में भेद नही करती, जो इसके महत्व को समझ जाता है वो अपने भविष्य को सुनहरा बना लेता है।

 Teachers Day 2016 Short Speech in Hindi

किसी भी राष्ट्र का आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक विकास उस देश की शिक्षा पर निर्भर करता है। शिक्षा के अनेक आयाम हैं, जो राष्ट्रीय विकास में शिक्षा के महत्व को रेखांकित करते हैं। वास्तविक रूप में शिक्षा का आशय है ज्ञान, ज्ञान का आकांक्षी है-शिक्षार्थी और इसे उपलब्ध कराता है शिक्षक।

तीनों परस्पर एक-दूसरे पर निर्भर हैं। एक के बगैर दूसरे का अस्तित्व नहीं। यहां शिक्षा व्यवस्था को संचालित करने वाली प्रबंधन इकाई के रूप में प्रशासन नाम की नई चीज जुड़ने से शिक्षा ने व्यावसायिक रूप धारण कर लिया है। शिक्षण का धंधा देश में आधुनिक घटना के रूप में देखा जा सकता है।

प्राचीनकाल की ओर देखें तब भारत में ज्ञान प्रदान करने वाले गुरु थे, अब शिक्षक हैं। शिक्षक और गुरु में भिन्नता है। गुरु के लिए शिक्षण धंधा नहीं, बल्कि आनंद है, सुख है। शिक्षक अतीत से प्राप्त सूचना या जानकारी को आगे बढ़ाता है, जबकि गुरु ज्ञान प्रदान करता है।

सूचना एवं ज्ञान में भी भिन्नता है। सूचना अतीत से मिलती है, जबकि ज्ञान भीतर से प्रस्फुटित होता है। गुरु ज्ञान प्रदान करता है और शिक्षक सूचना।

शिक्षा विकास की कुंजी है। विश्वास जैसे आवश्यक गुणों के जरिए लोगों को अनुप्रमाणित कर सकती है। विकसित एवं विकासशील दोनों वर्ग के देशों में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका समझी गई है। भारत में राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लेकर समय-समय पर बहस होती रही है।

इसे विडंबना ही कहें कि हम आज तक सर्व स्वीकार्य शिक्षा व्यवस्था कायम नहीं कर सके। उल्लेखनीय है कि तमाम सरकारी प्रयासों के बावजूद आज 19 वर्ष की आयु समूह में दुनिया की कुल निरक्षर आबादी का लगभग 50 प्रतिशत समूह भारत में है। कहा जाता है कि तरुणाई देश का भविष्य है।

राष्ट्र निर्माण में युवा पीढ़ी की अहम भूमिका है। इस संदर्भ में भारत की स्थिति अत्यधिक शर्मनाक और हास्यास्पद ही मानी जा सकती है। देश में लगातार हो रहे नैतिक एवं शैक्षणिक पतन से हमारे युवा वर्ग पर सर्वाधिक प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

देश के विश्वविद्यालय प्रतिवर्ष बेरोजगार नौजवानों की फौज तैयार करते जा रहे हैं। किसी ने ठीक ही कहा है - "सत्ता की नाकामी राजनीतिक टूटन को जन्म देती है।" हमारी राजनीतिक पार्टियां, जातियों में विघटित हो रही हैं।

परिणामस्वरूप मानव समाज आत्म केंद्रित और स्वार्थ केंद्रित होता जा रहा है। आज देश की राजनीति में काम और योग्यता का मूल्यांकन न होकर धन, बल और बाहुबल का बोलबाला है। लोकतंत्र के गौरव और प्रतिष्ठा का प्रतीक हमारी संसद वैचारिक प्रवाह चिंतन मनन की जगह द्वेष, कलह, झूठी शान और दिखावे के स्वर उभरते नजर आते हैं।

देश के कर्णधारों की कथनी-करनी के बीच बढ़ते अंतर ने मानव-मानव के बीच आस्था और विश्वास का संकेत खड़ा कर दिया है। व्यावसायिकता की आंच से मानवीय संवेदनाएं ध्वस्त हो रही हैं और हमारी कथित भाग्य विधाता शिक्षक समाज राष्ट्र में व्याप्त इस भयावह परिस्थिति को निरीह और असहाय प्राणी बनकर मूकदर्शक की भांति देखने को विवश हैं।

दुर्भाग्य से हमारे देश में समाज के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और आदर प्राप्त "शिक्षक" की हालत अत्यधिक दयनीय और जर्जर कर दी गई है।

शिक्षक शिक्षण छोड़कर अन्य समस्त गतिविधियों में संलग्न हैं। वह प्राथमिक स्तर का हो अथवा विश्वविद्यालयीन, उससे लोकसभा, विधानसभा सहित अन्य स्थानीय चुनाव, जनगणना, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री अथवा अन्य इस श्रेणी के नेताओं के आगमन पर सड़क किनारे बच्चों की प्रदर्शनी लगवाने के अतिरिक्त अन्य सरकारी कार्य संपन्न करवाए जाते हैं।

देश की शिक्षा व्यवस्था एवं शिक्षकों की मौजूदा चिंतनीय दशा के लिए हमारी राष्ट्रीय और प्रादेशिक सरकारें सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं, जिसने शिक्षक समाज के अपने हितों की पूर्ति का साधन बना लिया है। शिक्षा वह है, जो जीवन की समस्याओं को हल करे, जिसमें ज्ञान और काम का योग है?

आज विद्यालय में विद्यार्थी अध्यापक से नहीं पढ़ते, बल्कि अध्यापक को पढ़ते हैं।

वर्षभर उपेक्षा और प्रताड़ना सहन करने वाले समाज के दीनहीन समझे जाने वाले आज के कर्मवीर, ज्ञानवीर पराक्रमी और स्वाभिमानी शिक्षकों को 5 सितंबर को राष्ट्रीय राजधानी सहित देशभर में सम्मान प्रदान कर सरकार शिक्षक दिवस की औपचारिकता पूरी करती है।

संभावना आज की असीमित एवं अपरिमित है। निष्क्रिय समाज सक्रिय दुर्जनों से खतरनाक है। किसी महापुरुष द्वारा व्यक्त यह कथन हमें भयावह परिदृश्य से उबारने की प्रेरणा दे सकता है।

Conclusion

Stay connect with us for happy Teachers Day 2016 Short Essay in English, happy Teachers Day 2016 Short Essay in Hindi, happy Teachers Day 2016 Short Speech in Hindi, happy Teachers Day 2016 Short in English.
I hope you will love this article. So share this article with your family and friends.
I would like to know how you will celebrate this festival in the comment section.

0 comments:

Post a Comment